History PDF

मध्यकालीन भारत का इतिहास – Medieval Indian History PDF Notes Download in Hindi

Written by gkindia

मध्यकालीन भारत (Medieval Indian), भारतीय इतिहास का एक महत्वपूर्ण और रोचक अध्याय है, जो सामान्यत: 6वीं सदी से 18वीं सदी तक के पीरियड को कवर करता है। इस समय के दौरान, भारतीय सभ्यता और संस्कृति में विविधता की गहरी नींवें रखी गई थी और यहाँ पर राजा-महाराजा, धार्मिक आंदोलनों, कला और साहित्य के सुंदर उदाहरण हुए।

  1. दिल्ली सल्तनत: 12वीं सदी में, मुस्लिम सल्तनत भारत में आईं और वहाँ अपना शासन स्थापित किया। कुतुब-उद-दीन ऐबक, इल्तुतमिश, और अलाउद्दीन ख़िलज़ी जैसे प्रमुख सल्तनों ने भारत की राजनीति को परिवर्तित किया।
  2. मुगल साम्राज्य: मुगल सम्राटों के शासनकाल में, भारतीय सांस्कृतिक और राजनीतिक धारा में महत्वपूर्ण बदलाव हुआ। अकबर, जहाँगीर, और शाहजहाँ ने भारतीय कला, संस्कृति, और धर्म को प्रोत्साहित किया।
  3. विजयनगर साम्राज्य: दक्षिण भारत में, विजयनगर साम्राज्य ने अपना साम्राज्य स्थापित किया और दक्षिण भारतीय संस्कृति को प्रभावित किया।
  4. भक्ति आंदोलन: मध्यकालीन भारत में भक्ति आंदोलन ने धार्मिक और सामाजिक परिवर्तन को प्रोत्साहित किया। संत कबीर, गुरु नानक, और मीराबाई जैसे महान संतों ने एक मानवता के संदेश को प्रस्तुत किया।

मेडेवेल इंडियन हिस्ट्री भारतीय संस्कृति और इतिहास के महत्वपूर्ण पाठों में से एक है, जो हमें हमारे देश की गर्वभाषा और ऐतिहासिक धरोहर के प्रति गहरी समझ और सम्मान की दिशा में मदद करता है।

मध्यकालीन भारत के सारे महत्वपूर्ण घटनाओं को विस्तृत रूप में जानने के लिए नीचे दिए गए PDF डाउनलोड करें


भारत पर अरबों का आक्रमण (Arab attack on India)

अरबों का भारत पर हमला एक महत्वपूर्ण इतिहासिक घटना था, जिसमें अरबी व्यापारी और आक्रमकों ने भारत के पूर्वी और दक्षिणी भागों पर आक्रमण किया। इस हमले के दौरान, अरबों ने भारतीय उपमहाद्वीप के कई हिस्सों में अपना अधिकार स्थापित किया और वहाँ के सांस्कृतिक और आर्थिक धारा पर प्रभाव डाला इस काल की प्रमुख घटना 8वीं सदी में हुआ था, जब मुस्लिम व्यापारी और आक्रमक मुहम्मद बिन कासिम ने सिन्धु घाटी क्षेत्र में भारतीय अब्बासी खिलाफत के नाम पर आक्रमण किया। वह भारतीय राज्यों को प्रभावित करने में सफल रहे और सिन्धु घाटी क्षेत्र के ताक़ती सम्राट राजा जयपाल के साथ युद्ध किया।

आगे पढ़ने के लिए डाउनलोड करें हमारा Free PDF


महमूद गजनवी (Mahmud Ghaznavi)

भारतीय इतिहास में महमूद ग़ज़नवी महत्वपूर्ण रूप से प्रसिद्ध है, और वो अरब-तुर्क ग़ज़नवी वंश के एक प्रमुख शासक और आक्रमणकारी राजा था। वो 10वीं और 11वीं सदी के बीच भारत के आक्रमणकारी राजाओं में से एक था और अपने आक्रमणों के लिए प्रसिद्ध हुआ। महमूद ग़ज़नवी का मुख्य उद्देश्य धन की लूट होता था, और वो भारत के विभिन्न हिस्सों में 17 बार आक्रमण किया। उसका प्रसिद्धतम आक्रमण सोमनाथ मंदिर (गुजरात) पर हुआ था, जिसका लूट उसने 1026 और 1027 में किया।

महमूद गजनवी के बारे में अधिक जानकारी के लिए PDF डाउनलोड करें


मोहम्मद ग़ोरी (Mohammad Ghori)

मोहम्मद ग़ोरी (Muhammad Ghori) भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण आक्रमक शासकों में से एक था। वह ग़ोरी वंश के सुल्तान था और 12वीं और 13वीं सदी के बीच भारत पर आक्रमण करने के लिए प्रसिद्ध हुआ। मोहम्मद ग़ोरी ने पहले अपने भाई ग़ज़नवी सुल्तान कुतुबद्दीन ऐबक की मदद की और फिर उसने उसके बाद सुल्तान बना।

इसके बारे में सारी जानकारी PDF में दी गयी है


दिल्ली सल्तनत के राजवंश (Dynasties of Delhi Sultanate)

दिल्ली सल्तनत के राजवंशों का इतिहास भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण हिस्से में से एक है। दिल्ली सल्तनत, 13वीं सदी से 16वीं सदी के बीच भारत में मुस्लिम शासन का एक प्रमुख चरण था, और इसके दौरान कई राजवंश भारत का शासन करते रहे। दिल्ली सल्तनत के राजवंशों का इतिहास भारतीय इतिहास के विकास में महत्वपूर्ण था, और इनके शासनकालों में भारत में समाज, संस्कृति, और राजनीति के कई पहलुओं में बदलाव हुआ।

Dynasties of Delhi Sultanate के सभी राजवंशों (गुलाम वंश, खिलजी वंश, तुगलक वंश ….) बारे में अधिक जानकारी के लिए PDF डाउनलोड करें


विजय नगर साम्राज्य (Vijay Nagar Empire)

विजयनगर साम्राज्य (Vijayanagara Empire) भारतीय इतिहास के महत्वपूर्ण राजवंशों में से एक था, जो दक्षिण भारत में 14वीं से 17वीं सदी के बीच विद्यमान था। इस साम्राज्य का गठन संगम काल के बाद हुआ और यह बहुत बड़ा और प्रभावशाली साम्राज्य था, जिसने दक्षिण भारतीय सांस्कृतिक और राजनीतिक संगठन को प्रेरित किया।

दोस्तों विजयनगर साम्राज्य की संपूर्ण जानकारी के लिए डाउनलोड वाला बटन क्लिक करें


बहमनी राज्य (Bahmani kingdom)

बहमनी राज्य, भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण राज्यों में से एक था, जो 14वीं से 16वीं सदी के बीच दक्षिण भारत में स्थित था। इस राज्य का मुख्य कार्यक्षेत्र परमार और गोलकोंडा राज्य के बीच स्थित था। इसका गठन 1347 में हुआ था और यह राज्य अलाउद्दीन बहमन शाह द्वारा स्थापित किया गया था।

क्या आप बहमनी राज्य के बारे में और जानना चाहेंगे तो PDF डाउनलोड करें


स्वतंत्र प्रान्तीय राज्य (Independent provincial state)

मध्यकालीन भारत में स्वतंत्र प्रांतीय राज्य वें थे जो किसी बड़े शासक या दिल्ली सल्तनत के अधीन न होकर एक स्वतंत्र राज्य के रूप में उभारें जैसे जैसे दिल्ली सल्तनत कमजोर होता गया स्वतंत्र प्रांतीय राज्य की संख्या बढ़ती चली गई । इन राज्यों में कश्मीर, जैनपुर, मालवा, मेवाड़ जैसे और भी राज्य थें।

इन सभी राज्यों की संपूर्ण जानकारी प्राप्त करने के लिए नीचे दिए गए डाउनलोड वाला बटन दबाएं


सूफी आंदोलन (Sufi movement)

Sufi movement भारतीय इतिहास में सूफी संतों और उनके अनुयायियों द्वारा आयोजित एक महत्वपूर्ण आंदोलन था। यह आंदोलन मुख्य रूप से इस्लामी धर्म के सुफी धार्मिक समुदाय के अंतर्गत उत्थान और समाज में धर्मिक एकता की प्रमुख उद्देश्यों पर आधारित था। इसका कारण था सूफी आध्यात्मिकता का मूल माध्यम समाज में धर्मिक सहिष्णुता, धर्मान्तरण, और सामाजिक सुधार को प्रमोट करना।

सूफी आंदोलन और सूफी संतों के बारे में और अधिक जानकारी के लिए PDF डाउनलोड करें


भक्ति आंदोलन (Bhakti movement)

Bhakti movement भक्ति आंदोलन, भारतीय इतिहास में महत्वपूर्ण धार्मिक और सामाजिक आंदोलनों में से एक है, जो भारतीय समाज को धार्मिक और सामाजिक परिवर्तन की दिशा में बदल दिया। यह आंदोलन हिन्दू धर्म के भक्तों द्वारा प्रेरित था, जिन्होंने भगवान के प्रति अपनी अनिवार्य भक्ति और प्रेम की भावना को महत्वपूर्ण माना और धार्मिक अनुष्ठान के प्रति लोगों को प्रोत्साहित किया। भक्ति संतों ने अपने उपदेशों को संगीत, कविता, और प्रसिद्ध ग्रंथों के माध्यम से लोगों के पास पहुंचाया, जैसे कि संत कबीर, संत सूरदास, मीराबाई, और संत तुलसीदास ने किया।

भक्ति आंदोलन के प्रवर्तक, संत, भक्ति आंदोलन का उद्देश्य, विशेषता आदि के बारे में विशेष जानकारी के लिए PDF डाउनलोड करें


मुगल साम्राज्य (Mughal Empire)

मुग़ल साम्राज्य, भारतीय इतिहास का एक प्रमुख साम्राज्य था जो 16वीं से 19वीं सदी के बीच भारत में शासन किया। इस साम्राज्य का नाम “मुग़ल” उन्हीं मुग़ल शासकों से आया था जिन्होंने भारत में अपना शासन स्थापित किया और विभिन्न कला, साहित्य, और संस्कृति के क्षेत्र में महत्वपूर्ण योगदान किया।

ज्यादा जानकारी के लिए नीचे दिए गए PDF डाउनलोड करें


मुग़ल वंश के शासक (Mughal Empire)

मुग़ल शासकों का शासन भारतीय इतिहास में एक महत्वपूर्ण अध्याय है, जिसने भारतीय सभ्यता, कला, साहित्य, और सामाजिक धारा को परिवर्तित किया। मुग़ल शासकों ने 16वीं से 19वीं सदी के बीच भारत में बड़े पैमाने पर शासन किया।

मुगल शासकों और उनके शासन काल की जानकारी के लिए PDF डाउनलोड करें

About the author

gkindia

Leave a Comment

We would like to keep you updated with special notifications. Optionally you can also enter your phone number to receive SMS updates.